Posts

Women: Talents Infinite

Image
Being a women is not so easy, And it’s not everybody’s cup of tea.   A women has to portray various roles, And to prevent relations from loop holes.   She is the homemaker of the family, But also follows her passion profoundly.   A woman prepares food for her loved one, Being a head chef she serves equally to every person.   She goes to office on her own vehicles, Having courage she flies around the universe’s nine circles.   Though all children first learns from their mothers, Teachers are also behind the success of others.   All wounds of family are cured by her bandage, Various patients also recovers with her own skill and knowledge.   She make her child sleep by reciting story and lullaby, Some poetess and musicians create an awesome poem and melody.   Each and every of corner of house is managed by her, She takes responsibility of the whole body being a leader.   "Preet" endorse every women a very happy women’s day, In your lap, happiness of every creature may lay.   Poe

Season of Spring

Image
Here is the season of spring, Which is known as season’s king. In this season, we see beautiful flowers, All trees looks like very tall towers.   Flowers of Flame of the forest come, And morning dew drops looks like gum.   Marking the spring, all birds flew, And tries to give us a clue.   In beginning, size of grapes is small, But coconut trees always remains tall.   The sun and the clouds be friends, And with the breeze all the leaves bends.   No pollution, only fresh air, Nature be happy and fair.   “Preet” likes the arrival of spring, As in this season all birds sing.   Poetess:                                                                          Date: Chaitali D. Sinha                                                   12 th February 2016

एक पहचान

Image
हर जनवरी , होती है जो आसमान में चारों ओर , उड़ती है आज़ाद होकर और बंधती है फिरकी से जिसकी डोर | जब कटती है तो अपने पीछे सबको भगाती है , और कभी कभी सबकी उँगलियाँ भी कटवाती है |   हुनर है उसमें नीले आसमान को रंगीन करने का , काम है उसका दो दिन के लिए सब के दिल में उत्साह भरने का |   कितनी नसीबवार होती है यह पतंग , जो खुलकर जीती है ज़िंदगी हवा के संग |   ' प्रीत ' मानती है इस पतंग को एक पहचान , जो भरती है एक सबसे लंबी उड़ान |   कवयित्री:                                                                                  दिनांक : चैताली दी . सिन्हा                                                                         १४ जनवरी २०२ १

New Year, New Beginning

Image
Today is the last day of the yea r 2020, Unfortunately, it was full of sadness and negativity. No one could enjoy, no one could celebrate, To touch the world, everybody was deliberate.   But let’s start everything fresh and new, Because all have many things to do in queue.   For all, May the year of 2021 brings all the happiness, May all enjoy the life again without any stress.   Let’s welcome this New Year with full positivity, Let’s remain optimistic in each action and activity.   Let’s forget all jealousy, anger and tension, And start a new life without any obstruction. ‘Preet’ wishes all a very happy new year, May 2021 cherish us again and remove all the fear. Poetess:                                                   Date:  Chaitali D. Sinha                                       31 st December 2020

शुभ दीपावली

Image
दिवाली है रोशनी का त्यौहार , मिलते हैं जिसमें बहुत सारे उपहार। प्रतीक है यह बुराई पर सच्चाई की जीत का , सबूत है यह सदियों से चली आ रही रीत का | हर तरफ होती है चमक और रोशनी , मिलती है मिठाइयाँ अलग - अलग सामग्रियों की | देश के हर हिस्से में मनाया जाता है यह त्यौहार , दिवाली भी भरती है रिश्तों में मिठास और प्यार | अनेक बातियों से दीये जलाये जातें हैं , रंगोली से सभी घर सजाये जातें हैं | रोशनी का यह त्यौहार दिल में रौनक भर देता है , हर कोई इस दिन शुभ ही शुभ कहता है | माना अलग है दिवाली मनाने का तरीका इस बार , क्योंकि लटकी है हमारे सर पर कोरोना की तलवार | दिवाली इस बार भी हम पूरी धूमधाम से मनाएंगे , उम्मीद की किरण दिखाकर फिर से जीना सिखाएंगे | ' प्रीत '    की ओर से तरफ से आपको दिवाली की शुभकामनाएं , प्रभु श्री राम की कृपा से हर संकट जल्दी दूर हो जाए कवयित्री:                                                               दिनांक : चैताली दी . सिन्हा                                     १ ४ नवंबर , २०२०

बालिकाएँ एवं समानता

Image
दोनों ही माँ की कोख से जन्म लेते हैं , दोनों ही औरत को माँ बनाते हैं |    दोनों ही आँगन में खेलते हैं , दोनों ही झूले पर झूलते हैं |    दोनों ही साथ पढ़ते-लिखते हैं , दोनों ही एक जैसे संस्कार सीखते हैं |   दोनों से होती है माँ-बाप को उम्मीदें , काबिलियत तो पूरी होती है दोनों से |   दोनों ही परिवार का नाम रोशन करते हैं , दोनों ही अपनों को खोने से डरते हैं |    दोनों मेहनत से हासिल करते हैं सफलता , दोनों में है सब कर दिखाने की क्षमता |   जब भगवान ने बनाया है दोनों को बराबर , फिर क्यों देखे जातें है लड़के ऊपर |   यों तो बदल रहा है समय और बदल रहे है विचार , लेकिन अब भी होता है लड़की जनने वाली माँ पर अत्याचार |   मौका मिलने पर वो भी बदलेंगी तुम्हारी तक़दीर , क्योंकि हर लड़की होती है कोमल और वीर |   " प्रीत" की विनती है , मिले बेटियों को भी सम्मान , मत रोकना उन्हें , पूरे करने दो उनके अरमान |      कवयित्री:                                                                                                       दिनांक : चैताली डी. सिन्हा                                            

बापू की महिमा

Image
             उन्होने सच्चाई की राह दिखाई , उन्होंने अहिंसा की चादर बिछाई | उन्होंने चाहा सबका भला ,           उनमें थी देश को एक करने की कला | अनेक आंदोलनों की बने वह नींव , अपने आश्रम में बचाये उन्होंने अनेक पीड़ितों के जीव | दुश्मन भी उनके संयम से डरते थे , छोटे से बड़े सब उनकी इज़्ज़त करते थे | थे वह देश के विभाजन के विरुद्ध , उनका दिल हमेशा से था शुद्ध | सादा जीवन जी कर उन्होंने देश को कई पाठ पढ़ाये , अपने दृढ़ निश्चय और विश्वास से गाँधी महात्मा कहलाए | " प्रीत" का बापू को सादर प्रणाम , सबको करना चाहिए उनके जैसे शुभ काम | कवयित्री:                                                                               दिनांक : चैताली दी. सिन्हा                                                                  ०२ अक्टूबर २०२०